ग्राहक सेवा केन्द्र संचालक से लूटपाट करनें वाले पांच अपराधियों को पुलिस नें किया गिरफ्तार.

गिरिडीह : ग्राहक सेवा केन्द्र संचालक से हुए 25 हजार लूट की घटना का खुलासा पचंबा थाना पुलिस करने में सफल रही। पुलिस ने सेवा केन्द्र संचालक से लूट की घटना को अंजाम देने में शामिन पांच अपराधियों को गिरफ्तार भी कर लिया। गिरफ्तार अपराधियों के पास से पुलिस ने दो देसी कट्टा के साथ चार पीस जिंदा कारतूस, 2900 सौ रुपये नगद के साथ दो बाईक को भी बरामद किया। वहीं मंगलवार को पुलिस लाईन में प्रेसवार्ता कर एसपी अमित रेणु और पचंबा थाना प्रभारी नीतिश कुमार ने पूरे घटना की जानकारी दिया। जिन पांच अपराधियों को पुलिस ने गिरफ्तार किया। उनमें एक अपराधी बिहार के नालंदा जिले का रहने वाला मृगेन्द्र पासवान उर्फ विभाष पासवान है। तो चार और अपराधियों में पचंबा के शातिर अपराधियों में पचंबा के शांति नगर निवासी पंकज पांडेय उर्फ पिकूं पांडेय, गांडेय के महजोरी गांव निवासी मोदी उर्फ मो. जबीर, पेठियाटांड निवासी चुलबुल उर्फ मुकेश साव और पचंबा के ही हटिया रोड के राजगढ़िया गली निवासी आयुष फांगेड़िया शामिल है।

पचंबा पुलिस के अनुसार गिरफ्तार अपराधियों में पिंकू पांडेय और आयुष फांगेड़िया के खिलाफ डकैती और सड़क लूट के कई मामले दर्ज है। जिसमें शहर के प्रसिद्ध चिकित्सक डा. दीपक बगेड़िया के घर साल 2009 में अपने गिरोह के साथ पिंकू पांडेय ने डकैती की घटना को अंजाम दिया था। डा. बगेड़िया के घर डकैती कांड के बाद अपराधी पिंकू पांडेय जमानत पर जेल से मुक्त हुआ था। इसके बाद भी पिंकू पांडेय लगातार अपराधिक घटनाओं को अंजाम देता आया। वहीं बोाकरो में ही पिंकू पांडेय ने रामसेवक सिंह के घर पर डकैती की घटना को अंजाम दिया था। पिंकू पांडेय के साथ पचंबा पुलिस के हत्थे चढ़ा अपराधी आयुष फांगेड़िया भी शातिर अपराधियों में शामिल है। क्योंकि आयुष फांगेड़िया ने ही पांच साल पहले पचंबा के राजगढ़िया गली रोड से अपने चचेरे भाई का अपहरण पिंकू पांडेय के साथ किया था। इन घटनाओं के बाद से पिंकू और आयुष फरार चल रहे थे। लिहाजा, पुलिस इन अपराधियों को संभवत रिमांड पर लेकर पूछताछ भी कर सकती है।

इधर प्रेसवार्ता के दौरान एसपी और थाना प्रभारी ने बताया कि तीन अपराधियों ने पचंबा के ग्राहक सेवा केन्द्र संचालक मो. सोहेल अख्तर से ग्राहक सेवा केन्द्र में 25 लूटकर फरार हुए थे। घटना के तुंरत बाद ही पुलिस ने छापेमारी तेज किया। और गुप्त सूचना के आधार पर घटना के दिन ही कुछ देर बाद इन तीनों अपराधियों को गिरफ्तार करने में सफलता पाया। गिरफ्तारी के दौरान इन अपराधियों के पास से हथियार और नगद रुपये बरामद किए गए। तीनों के निशानदेही पर पुलिस ने दो और अपराधियों को दबोचने में सफल रही।

वैसे पुलिस सूत्रों की मानें तो इन अपराधियों में से किसी एक अपराधी का संपर्क शहर की एक लड़की के साथ भी था। और घटना के दिन ही इस लड़की द्वारा मोबाइल फोन पर बातचीत किए जाने की बात सामने आई थी। जबकि घटना के दुसरे दिन ही इस लड़की से पूछताछ भी किया गया। हालांकि यह स्पस्ट नहीं है कि लड़की का संपर्क किस अपराधी से किस तरह का था।

गिरिडीह दिनेश

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

हिन्दी हिन्दी English English
Live Updates COVID-19 CASES
%d bloggers like this: