नक्सलियों के ख़ात्मे को लेकर गढ़वा पुलिस नें की क्राइम मीटिंग.

गढ़वा : गढ़वा जिले का बूढ़ा पहाड़ जहां आज भी भाकपा माओवादियों का राज चलता है, लेकिन अब उस जगह पर फतह पाने की दिशा में गढ़वा पुलिस ने कदम बढ़ा दी है। आज नक्सलियों के इसी मांद में पुलिस ने घुस कर बुढ़ा पहाड़ के नजदीक क्राइम मीटिंग के जरिये इस योजना पर काम शुरू कर दिया है, जिससे माओवादियों का खात्मा तय माना जा रहा है। वह इसलिए भी की कुछ दिन पहले भंडरिया में देश के आंतरिक सुरक्षा सलाहकार का भी दौरा हुआ था।

आज एसपी भंडरिया थाना क्षेत्र के बिजका सरकारी स्कूल के मैदान में गढ़वा जिले के टॉप मोस्ट पुलिस पदाधिकारियों के साथ भाकपा माओवादियों के खिलाफ रणनीति बना रहे हैं। जिस जगह पर यह रणनीति और क्राइम मीटिंग हो रही है कभी यहाँ नक्सलियों का ट्रेनिंग सेंटर हुआ करता था। हर वक्त यहाँ जन अदालत लगा कर फैसला सुनाया जाता था, लेकिन स्थिति ऐसी बदली की आज इस क्षेत्र में विकास की बयार बहनी शुरू हो गई है। पुलिस पिकेट की स्थापना हुई तो लोग अपने-आप को सुरक्षित महसूस करने लगे। इसी जगह से बूढ़ा पहाड़ काफी नजदीक है जहाँ नक्सली अभी भी रहा करते है।

अभी कुछ दिन पहले देश के आंतरिक सलाहकार भी आकर इससे संबंधित एक महत्वपूर्ण बैठक कर गए है। जिसके बाद से ही पुलिस काफी जोश में है। एसपी ने कहा कि यह कड़ी चेतावनी है नक्सलियों को मुख्य धारा में लौट जाओ नही तो भागने का जगह भी नही देंगे। वहीं उन्होंने कहा कि ये जो ग्रामीणों की पिटाई किये थे ये उनका कायराना हरकत है। साथ ही उन्होंने अपने जवानों का हौसला अफजाई भी किया।

आज ग्रामीण पुलिस के बड़े-बड़े अधिकारियों को गांव में देख बहुत खुश थे। वहीं विकास के मुद्दे पर एसपी ने कहाकि हम इस विषय पर जिला में डीसी से मीटिंग कर विकास से संबंधित योजनाओं को धरातल पर उतारेंगे, क्योकि कुछ सड़के भी खराब है फोर्स डिपॉवयमेंट में दिक्कत ना हो इसपर भी ध्यान दिया जाएगा। झारखंड में बूढ़ा पहाड़ एवं सारंडा का जंगल दो ऐसे जगह है जहां नक्सलियों की आज भी तूती बोलती है, लेकिन झारखंड के गढ़वा पुलिस का यह रूप देखकर लगता है नक्सलियों के दिन अब जाने वाले है क्योंकि पुलिस इन नक्सलियों पर नजरें गढ़ाए बैठी है।

गढ़वा, वी के पांडे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

हिन्दी हिन्दी English English
Live Updates COVID-19 CASES
%d bloggers like this: